साध्वी पर 10 दिन में जवाब आने के बाद होगी कार्रवाई

0
4465

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के प्रचार के आखिरी दिन बीजेपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कई सवालों के जवाब दिए। मोदी सरकार के बनने के बाद यह पहला मौका था, जब पीएम प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे। हालांकि सभी सवालों के जवाब बीजेपी अध्यक्ष दे रहे थे। इस दौरान साध्वी प्रज्ञा के बयान को लेकर पूछे गए सवाल पर अमित शाह ने कहा कि गोडसे-गांधी बयान देने वाले नेताओं को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया है, 10 दिन में जवाब आने पर इस पर कार्रवाई की जाएगी। पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष ने बीजेपी को बहुमत मिलने का भरोसा जताया है।

साध्वी प्रज्ञा पर होगी कार्रवाई

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, ‘साध्वी प्रज्ञा को पार्टी ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उन्हें 10 दिन में जवाब देना है। उनका जवाब आने पर अनुशासन समिति कार्रवाई करेगी।’ बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि गांधी-गोडसे पर बयान देने वाले अन्य नेताओं को भी नोटिस जारी किया गया है।

साध्वी की उम्मीदवारी एक ‘सत्याग्रह’

इस दौरान साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवार के सवाल पर शाह ने कहा, ‘साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवारी फर्जी भगवा आतंक के खिलाफ हमारा सत्याग्रह है। देश की अदालत भी भगवा आतंक को फर्जी बता चुकी है। भगवा आतंक शब्द देने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष को देश से माफी मांगनी चाहिए।’

300 सीटों का भरोसा

इस दौरान पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बीजेपी के 300 सीटें मिलने का अनुमान जताया। शाह ने कहा, ‘बीजेपी अपने दम पर सरकार बनाएगी, और हम 300 से ज्यादा सीटें प्राप्त करेंगे। बीजेपी को बहुमत का भरोसा, लेकिन नए साथियों के लिए दरवाजे खुले हैं।’ शाह ने कहा कि बीजेपी के सहयोगी दलों को भी काफी सीटें मिलेंगी।

‘जनता लड़ रही चुनाव’

पीएम मोदी ने कहा, ‘जब चुनाव के लिए निकला तो मन बनाकर निकला था कि 2014 में आशीर्वाद देने वाले लोगों का धन्यवाद करूंगा। मैं आपके पास आया हूं धन्यवाद करने के लिए। 5 साल अभूतपूर्व प्रेम मुझे मिला। हर मुश्किल घड़ी में देश मेरे साथ रहा है। जहां संभव हुआ, वहां पहुंचकर मैंने लोगों को धन्यवाद किया है। जनता इस बार खुद चुनाव लड़ रही है।’

‘लास्ट मैन डिलीवरी’ विशेषता

अमित शाह ने कहा, ‘सरकार बनाना देश की जनता ने तय कर लिया है, हमने अपने संकल्प पत्र में बहुत सारी बातें कहीं हैं। हमारी विशेषता लास्ट मैन डिलीवरी रही है। एक संगठन के आधार पर चुनाव के कैसे लड़ा जाता है, यह लोकतंत्र की असली ताकत है।’

अभियान मेरठ से शुरू, एमपी में खत्म

पीएम मोदी ने बताया कि मेरी पहली सभा मेरठ में हुई थी, जो 1857 की क्रांति का केंद्र है और आज आखिरी जनसभा मध्यप्रदेश में हुई, जहां के आदिवासी भीमानायक ने क्रांति में हिस्सा लिया था। पीएम ने कहा, ‘यह कोई अचानक होने वाली बात नहीं है, बल्कि हमारी तैयारी का नतीजा है।’

सबसे बड़ा लोकतंत्र होने का गर्व

पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं मानता हूं कि कुछ बातें दुनिया के लिए हम गर्व के साथ कह सकते हैं। यह दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। इसे दुनिया के सामने ले जाना किसी सरकार का काम नहीं है, बल्कि सबका काम है। 2009-14 के चुनाव ऐसे थे, जब आईपीएल को बाहर जाना पड़ा। लेकिन इस बार चुनाव के साथ सब कार्यक्रम हो रहे हैं। चाहे वह पर्व हों या आईपीएल। यह सरकार की उपलब्धि नहीं बल्कि भारत के गौरव की बात है।

17 मई से शुरू हुई थी ईमानदारी की शुरुआत

पीएम मोदी ने कहा, ’16 मई को 2014 में रिजल्ट आया था और कुछ लोगों को 17 मई को बड़ा नुकसान हुआ था। 17 मई को उन सट्टेबाजों को नुकसान हुआ था, जिन्हें ऐसे परिणाम की उम्मीद नहीं थी।’ पीएम ने कहा कि 17 मई से ही देश में ईमानदारी की शुरुआत हो गई थी।

LEAVE A REPLY