एक ही जोक पर बार-बार नहीं हंस सकते तो…

178
3571
 किसी गांव में एक चतुर व्यक्ति रहता था। आसपास के कई गांवों के लोग भी उसके पास समस्याएं लेकर आते थे। उस व्यक्ति ने महसूस किया कि लोगों की समस्याएं लगभग एक जैसी हैं, लेकिन स्थान और लोग बदल जाते हैं। बार-बार एक ही तरह की समस्या पर चिंतित होने और मशविरा करने के लिए उसके पास आना ग्रामीणों की आदत बन गया था।

एक दिन उसने ग्रामीणों को एक जोक सुनाया। ग्रामीण ठहाके मारकर हंसने लगे। थोड़ी देर में उसने फिर वही जोक सुना दिया। इस बार लोग पहले से कम हंसे। तीसरी बार भी वही जोक सुना दिया। लोग मुस्करा कर रह गए। चौथी बार कोई न तो मुस्कराया और न ही हंसा। जोक पर लोगों को कोई प्रतिक्रिया नहीं होने पर चतुर व्यक्ति ने कहा, अब आप लोग बताओ, जब आप एक ही जोक पर बार-बार नहीं हंस सकते तो हमेशा एक ही समस्या पर बार-बार रोने का क्या मतलब है।  

यह कहानी इशारा करती है कि घबराने या चिंता करना किसी समस्या का हल नहीं है। यह पूरी तरह समय और ऊर्जा को बर्बाद करने जैसा है।

178 COMMENTS

  1. I was just seeking this info for a while. After six hours of continuous Googleing, at last I got it in your website.
    I wonder what is the lack of Google strategy that don’t rank
    this kind of informative sites in top of the list. Usually the top websites are full of
    garbage.

  2. Hey There. I found your blog using msn. This is a very
    well written article. I’ll make sure to bookmark it and return to read more of your useful information. Thanks for the post.

    I will certainly comeback.

LEAVE A REPLY